Welcome:

BA 1st year Hindi Literature Paper 1

जिस भी Tab को देखना चाहते हैं उसके (+) को क्लिक करें वो open हों जायेगा

BA 1st year Hindi Literature Paper 1 in Hindi: सत्र 2023-24 की छत्तीसगढ़ कॉलेज और यूनिवर्सिटी की परीक्षा में भाग लेने वाले छात्रों के लिए हमने ख़ास महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर जारी किए हैं।

इन्हे बनाने में हमने बहुत रिसर्च, जांच कर और कई शिक्षकों की सहायता लेकर चयन कर बनाया हैं।

इसमें आपको B.A./ B.Com/ B.Sc के प्रथम/द्वित्य/अंतिम (1st/2nd/final) वर्ष के प्रश्न उत्तर मिलेंगे। इन प्रश्नों को ख़ास तरीके से पिछले कई सालों के प्रश्न पत्रों को जांच कर नई शिक्षा प्रणाली के अधार पर चुना गया हैं।

जिससे इनके परिक्षा में आने की 100% संभावना हैं, यदि आप भी इस वर्ष BA 1st year Hindi Literature Paper 1 in Hindi की तैयरी कर रहे हैं। तो आपके लिए महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर नीचे मिल जायेंगे। ज़रूर देखिए।

यह question and answer छत्तीसगढ़ की प्रमुख 6 यूनिवर्सिटी के लिए केवल उपयोग में होगी, जो आपको english और hindi दोनों माध्यम में मिल जाएगी 

  1. Atal Bihari Vajpayee Vishwavidhyalaya (ABVV) / Bilaspur University
  2. Pt. Ravishankar Shukla University (PRSU) / Raipur University
  3. Shaheed Nandkumar Patel Vishwavidyalaya (SNPV) / Raigarh University
  4. Shaheed Mahendra Karma Vishwavidyalaya (BVV) / Bastar University
  5. Hemchand Yadav Vishwavidyalaya (HYU) / Durg University
  6. Sant Gahira Guru Vishwavidyalaya (SGGU) / Sarguja University

Syllabus in Hindi

उददेश्य एवं प्रश्तावना :
प्राचीन से यहाँ तात्पर्य है- आधुनिक काल से पूर्व का काल। सही अर्थ में हिन्दी भाषा और साहित्य का विकास आदिकाल से थुरू होता है। इसमें धार्मिक तथा ऐतिहासिक दो प्रकार का सांहित्य मिलता है, जो प्रबंध, मुक्तक, रासो, फागु, चरित, सुभाषित आदि विविध काव्यरूपों में अभिव्यंजित है। मध्यकालीन साहित्य की पृष्ठभूक्मि के रूप में इसे प्रतिष्ठापित किया जाता है। मध्यकालीन कांव्य में भक्तिकाव्य, जहाँ लोक जागरण को स्वर देने वाला है, वही रीतिकाल अपने लौकिक- शृंगारिका, परिदृश्य में तत्कालीन सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक स्थितियों को बेलौस अभिव्यंजित करता है। अतः भाषा, संस्कृति, विचार, मानवता, काव्यरूपता, लौकिकता-पारलौकिकता, आदि दृष्टियों से इसका अध्ययन अत्यावश्यक है।
पाठ्य विषय : प्राचीन हिन्दी कांव्य की पृष्ठभूमि एवं प्रवृत्तियाँ
  1. कबीरदास : कबीर-कांतिकुमार जैन-प्रारंभिक 50 साखियाँ
  2. जायसी : संक्षिप्त पद्मावत-श्यामसुंदर दास, नागमती वियोग वर्णन
  3. सूरदास : भमर गीत सार- संपादक आचार्य रामचन्द्र शुक्ल-प्रारंभिक 25 पद
  4. तुलसीदास : “श्रीरामचरितमानस” के सुन्दरकाण्ड से प्रारंभिक 30 दोहे, चौपाई छंद सहित।
  5. घनानन्द : घनानन्द- संपादक विश्वनाथ प्रसाद मिश्र – प्रारंभिक 25 छन्द
    दुतपाठ : इसके अंतर्गत 1. विद्यापति, 2. रहीम, 3. रसखान, 4. गोपाल मिश्र का अध्ययन किया जावेगा, जिसमें से किन्ही दो पर लघु उत्तरीय प्रश्न पूछे जार्येंगे।
अंक विभाजन :
  1. व्याख्याएँ (3) 21 अंक
  2. आलोचनात्मक प्रश्न (2) 24 अंक
  3. लघु उत्तरीय प्रश्न (3) 15 अंक
  4. वस्तुनिष्ठ प्रश्न (15)  15 अंक।

आपने Login नहीं किया हैं, Unit 2 से 5 तक के सभी प्रश्न उत्तर देखने के लिए अपने Id Password से Login करें, यदि New User हैं? तो Register पर click कर अपना Account आसानी से बनाए

 
 

 

B.A. 1st
Sociology Paper1
Paper2
Political Science Paper1
Paper2
Hindi Literature Paper1
Paper2
Geography Paper1
Paper2
History Paper1
Paper2
Economics Paper1
Paper2
English Literature Paper1
Paper2

You cannot copy content of this page